🇲🇰Inspiring Stories in Hindi - Motivational Stories - Easy Guidelines - Facts of Life - Thought (सोच)🇲🇰


एक गाँव  में दो साधू  रहते थे। वे  मंदिर में पूजा करते थे और भीख मांगकर अपना जीवन यापन करते थे। एक दिन गाँव में आंधी आ गयी और बहुत तेज मूसलाधार बारिश होने लगी, दोनों साधू गाँव की सीमा से लगी एक झोपड़ी में निवास करते थे, शाम को जब दोनों वापस पहुंचे तो देखा कि आंधी-तूफ़ान के कारण उनकी आधी झोपडी टूट गई है। यह देखकर पहला साधू बड़ा क्रोधित हो उठा और मन ही मन बुदबुदाने लगता है ,” भगवान तू मेरे साथ हमेशा ही गलत करता है… मैं दिन भर तेरा नाम लेता हूँ , मंदिर में तेरी पूजा अर्चना करता हूँ फिर भी तूने मेरी झोपडी तोड़ दी… गाँव में चोर – लुटेरे, झूठे-लफंगे लोगो के तो मकानों को कुछ नहीं हुआ , बिचारे हम साधुओं की झोपडी ही तूने तोड़ दी ये तेरा ही काम है …हम तेरा नाम जपते हैं पर तू हमसे प्रेम नहीं करता….”

         तभी दूसरा साधू आता है और झोपडी को देखकर खुश हो जाता है और अपने अंदाज से भगवान का स्मरण  कर कहता है कि,"हे भगवान! आज विश्वास हो गया तू हमसे कितना प्रेम करते हो, ये हमारी आधी झोपड़ी  तूने ही बचाई होगी वरना इतनी तेज आंधी – तूफ़ान में तो पूरी झोपडी ही उड़ जाती ये तेरी ही कृपा है कि अभी भी हमारे पास सर ढंकने को जगह है…. निश्चित ही ये मेरी पूजा का फल है , कल से मैं तेरी और पूजा करूँगा , मेरा तुझ पर विश्वास अब और भी बढ़ गया है… तेरी जय हो ! तेरी जय हो!"

 मेरे वंदनीय बंधुजन-बहनो, एक ही घटना को एक ही जैसे दो लोगों ने कितने अलग-अलग ढंग से देखा। हमारी सोच हमारा भविष्य तय करती है , हमारी दुनिया तभी बदलेगी जब हमारी सोच बदलेगी। यदि हमारी सोच पहले वाले साधू की तरह होगी तो हमें हर चीज में कमी ही नजर आएगी और यदि हमारी सोच  दूसरे साधू की तरह होगी तो हमे हर चीज में अच्छाई ही दिखेगी।

आज हम जिस परिस्थिति से गुजर रहे हैं,हमें भी दूसरे साधू की तरह  सकारात्मक सोच बनाये रखनी चाहिए और राष्ट्र को कोरोना महामारी की जंग से विजेता बनाने में पूर्ण ईमानदारी से कर्तव्यकर्म करना चाहिए।
सकारात्मक सोच एवं विशाल सहृदयता से ही जीवन सुखमय व आनंदमय  होता है।

Om Shanti

Comments