Inspirational Stories - अंधा घोड़ा (Blind Horse Story in Hindi) | Audible Motivational Story in Hindi

Inspirational Stories - अंधा घोड़ा

शहर के नज़दीक बने एक farm house में दो घोड़े रहते थे| दूर से देखने पर वो दोनों बिलकुल एक जैसे दीखते थे, पर पास जाने पर पता चलता था कि उनमे से एक घोड़ा अँधा है, पर अंधे होने के बावजूद farm के मालिक ने उसे वहां से निकाला नहीं था बल्कि उसे और भी अधिक सुरक्षा और आराम के साथ रखा था|

अगर कोई थोडा और ध्यान देता तो उसे ये भी पता चलता कि मालिक ने दूसरे घोड़े के गले में एक घंटी बाँध रखी थी, जिसकी आवाज़ सुनकर अँधा घोड़ा उसके पास पहुंच जाता और उसके पीछे-पीछे बाड़े में घूमता| घंटी वाला घोड़ा भी अपने अंधे मित्र की परेशानी समझता, वह बीच-बीच में पीछे मुड़कर देखता और इस बात को सुनिश्चित करता कि कहीं वो रास्ते से भटक ना जाए| वह ये भी सुनिश्चित करता कि उसका मित्र सुरक्षित वापस अपने स्थान पर पहुच जाए, और उसके बाद ही वो अपनी जगह की ओर बढ़ता|

दोस्तों, बाड़े के मालिक की तरह ही भगवान हमें बस इसलिए नहीं छोड़ देते कि हमारे अन्दर कोई दोष या कमियां हैं| वो हमारा ख्याल रखते हैं और हमें जब भी ज़रुरत होती है तो किसी ना किसी को हमारी मदद के लिए भेज देते हैं| कभी-कभी हम वो अंधे घोड़े होते हैं, जो भगवान द्वारा बांधी गयी घंटी की मदद से अपनी परेशानियों से पार पाते हैं तो कभी हम अपने गले में बंधी घंटी द्वारा दूसरों को रास्ता दिखाने के काम आते हैं|

Inspirational Stories - अंधा घोड़ा (Blind Horse)

Inspirational Stories - (Blind Horse)

Two horses lived in a farm house built near the city. Looking at them from far away, they both looked exactly alike, but upon passing, it was found that one of them is a blind horse, but despite being blind the owner of the farm did not remove him from there but gave him even more security and comfort. Was kept with

If someone had paid a little more attention, he would have also known that the owner had tied a bell around the neck of the other horse, on hearing whose voice the blind horse would reach him and follow him around the fence. Even the bell horse considered the trouble of his blind friend, he would look back in between and make sure that he does not get lost in the way. He would also ensure that his friend safely returned to his place, and only then would he move towards his place.

Friends, just like the owner of the farm, God does not leave us just because we have any faults or shortcomings. They take care of us and whenever we need, we send someone to help us. Sometimes we are those blind horses, who overcome their problems with the help of the bell tied by God, sometimes we use the bell tied around our neck to show others the way.

Comments