Inspirational Stories- ईश्वर पर अटूट भरोसा (Unwavering Faith in God)


भगवान आपके साथ हैं    जाड़े का दिन था और शाम होने आयी । आसमान में बादल छाये  थे । एक नीम के पेड़ पर बहुत से कौए बैठे थे । वे सब बार बार काँव-काँव कर रहे थे और एक दूसरे से झगड़ भी रहे थे । इसी समय एक मैना आयी और उसी पेड़ की एक डाल पर बैठ गई । मैना को देखते ही कई कौए उस पर टूट पड़े । -  बेचारी मैना ने कहा – बादल बहुत है इसीलिये आज अँधेरा हो गया है । मैं अपना घोंसला भूल गयी हूँ इसीलिये आज रात मुझे यहाँ बैठने दो । - कौओं ने कहा – नहीं यह पेड़ हमारा है तू यहाँ से भाग जा । - मैना बोली – पेड़ तो सब इश्वर के बनाये हुए है । इस सर्दी में यदि वर्षा पड़ी और ओले पड़े तो इश्वर ही हमें बचा सकते है । मैं बहुत छोटी हूँ तुम्हारी बहिन हूँ, तुम लोग मुझ पर दया करो और मुझे भी यहाँ बैठने दो ।

🍃कौओं ने कहा हमें तेरी जैसी बहिन नहीं चाहिये । तू बहुत इश्वर का नाम लेती है तो इश्वर के भरोसे यहाँ से चली क्यों नहीं जाती । तू नहीं जायेगी तो हम सब तुझे मारेंगे । - कौए तो झगड़ालू होते ही है, वे शाम को जब पेड़ पर बैठने लगते है तो उनसे आपस में झगड़ा किये बिना नहीं रहा जाता वे एकदूसरे को मारते है और काँव काँव करके झगड़ते रहते है । कौन कौआ किस टहनी पर रात को बैठेगा । यह कोई झटपट तय नहीं हो जाता । उनमें बार बार लड़ाई होती है, फिर किसी दूसरी चिड़या को वह पेड़ पर कैसे बैठने दे सकते है । आपसी लड़ाई छोड़ कर वे मैना को मारने दौड़े । -  कौओं को काँव काँव करके अपनी ओर झपटते देखकर बेचारी मैना वहाँ से उड़ गयी और थोड़ी दूर जाकर एक आम के पेड़ पर बैठ गयी ।

🏦रात को आँधी आयी, बादल गरजे और बड़े बड़े ओले बरसने लगे । बड़े आलू जैसे ओले तड़-भड़ बंदूक की गोली जैसे गिर रहे थे । कौए काँव काँव करके चिल्लाये । इधर से उधर थोड़ा बहुत उड़े परन्तु ओलो की मार से सब के सब घायल होकर जमीन पर गिर पड़े । बहुत से कौए मर गये ।  -  मैना जिस आम पर बैठी थी उसकी एक डाली टूट कर गिर गयी । डाल भीतर से सड़ गई थी और पोली हो गई थी । डाल टूटने पर उसकी जड़ के पास पेड़ में एक खोंडर हो गया । छोटी मैना उसमें घुस गयी और उसे एक भी ओला नहीं लगा । - सबेरा हुआ और दो घड़ी चढने पर चमकीली धूप निकली । मैंना खोंडर में से निकली पंख फैला कर चहक कर उसने भगवान को प्रणाम किया और उड़ी ।

🌎पृथ्वी पर ओले से घायल पड़े हुए कौए ने मैना को उड़ते देख कर बड़े कष्ट से पूछा – मैना बहिन तुम कहाँ रही तुमको ओलो की मार से किसने बचाया ।  - मैना बोली मैं आम के पेड़ पर अकेली बैठी थी और भगवान की प्रार्थना करती थी । दुख में पड़े असहाय जीव को इश्वर के सिवा कौन बचा सकता है ।- लेकिन इश्वर केवल ओले से ही नहीं बचाते और केवल मैना को ही नहीं बचाते । जो भी इश्वर पर विश्वास करता है और इश्वर को याद करता है, उसे इश्वर सभी आपत्ति-विपत्ति में सहायता करते है और उसकी रक्षा करते है ।


Inspirational Stories- ईश्वर पर अटूट भरोसा (Unwavering Faith in God)


God is with you, it was winter and evening came. There were clouds in the sky. Many crows were sitting on a neem tree. All of them were going from village to village and fighting with each other. At the same time a myna came and sat on a branch of the same tree. On seeing Maina, many crows fell on him. - Poor Maina said - Cloud is very much, that is why it has become dark today. I have forgotten my nest, so let me sit here tonight. - The crows said - No, this tree is ours, you run away from here. - Maina Boli - The tree is all made of God. If it rains and hail in this winter, only God can save us. I am very young, your sister, you have pity on me and let me sit here too.

Kako said, we do not want a sister like you. If you take the name of God so much, then why don't you trust God. If you don't go, we will all kill you. Crows are quarrelsome, when they start sitting on the tree in the evening, they do not go without quarreling with each other, they kill each other and quarrel with each other. Which crow will sit at night on which twig. This is not fixed immediately. They fight again and again, then how can they allow any other bird to sit on the tree. They run to kill Maina after leaving a mutual battle. Poor Maina flew away from there and saw the crows go haywire towards her and went a little distance and sat on a mango tree.

It was late in the night that the storm came, thunderstorms and heavy hail started raining. Big potatoes like hail were falling like gunfire. The crows shouted A few flew from here to there, but all of them got injured and fell on the ground due to the hailstorm. Many crow died. - One of the mangoes on which Maina was sitting fell apart. The dall had rotted from within and became polly. When the branch broke, there was a crust in the tree near its root. The younger Maina entered it and did not find a single hail. - It was morning and two hours later, bright sunlight came out. I spread my wings out of Khondar and bowed to God and flew away.

When the hail injured crow on earth saw myna flying and asked with great distress - Where have you been, myna sister, who saved you from the blow of olo. Maina Boli: I was sitting alone on the mango tree and used to pray to God. Who can save the helpless creature in sorrow except God. - But God does not save only from hail and only save manna. Whoever believes in God and remembers God, he is helped and protected by all the calamities.

To listen more Inspirational Stories like this please follow our below channel:

              🔹✨ओम शान्ति ✨🔹

Comments