Motivational Stories - ऋषि और एक चूहा (Sage and A Mouse Hindi Story) | Hindi Spiritual Story

एक वन में एक ऋषि रहते थे. उनके डेरे पर बहुत दिनों से एक चूहा भी रहता आ रहा था. यह चूहा ऋषि से बहुत प्यार करता था. जब वे तपस्या में मग्न होते तो वह बड़े आनंद से उनके पास बैठा भजन सुनता रहता. यहाँ तक कि वह स्वयं भी ईश्वर की उपासना करने लगा था. लेकिन कुत्ते – बिल्ली और चील – कौवे आदि से वह सदा डरा – डरा और सहमा हुआ सा रहता.एक बार ऋषि के मन में उस चूहे के प्रति बहुत दया आ गयी. वे सोचने लगे कि यह बेचारा चूहा हर समय डरा – सा रहता है, क्यों न इसे शेर बना दिया जाए. ताकि इस बेचारे का डर समाप्त हो जाए और यह बेधड़क होकर हर स्थान पर घूम सके. ऋषि बहुत बड़ी दैवीय शक्ति के स्वामी थे. उन्होंने अपनी शक्ति के बल पर उस चूहे को शेर बना दिया और सोचने लगे की अब यह चूहा किसी भी जानवर से न डरेगा और निर्भय होकर पूरे जंगल में घूम सकेगा. लेकिन चूहे से शेर बनते ही चूहे की सारी सोच बदल गई. वह सारे वन में बेधड़क घूमता. उससे अब सारे जानवर डरने लगे और प्रणाम करने लगे. उसकी जय – जयकार होने लगी. किन्तु ऋषि यह बात जानते थे कि यह मात्र एक चूहा है. वास्तव में शेर नहीं है. अतः ऋषि उससे चूहा समझकर ही व्यवहार करते. यह बात चूहे को पसंद नहीं आई की कोई भी उसे चूहा समझ कर ही व्यवहार करे. वह सोचने लगा की ऐसे में तो दूसरे जानवरों पर भी बुरा असर पड़ेगा. लोग उसका जितना मान करते है, उससे अधिक घृणा और अनादर करना आरम्भ कर देंगे. अतः चूहे ने सोचा कि क्यों न मैं इस ऋषि को ही मार डालूं. फिर न रहेगा बाँस, न बजेगी बांसुरी. यही सोचकर वह ऋषि को मारने के लिए चल पड़ा. ऋषि ने जैसे ही क्रोध से भरे शेर को अपनी ओर आते देखा तो वे उसके मन की बात समझ गये. उनको शेर पर बड़ा क्रोध आ गया. अतः उसका घमंड तोड़ने के लिए  ऋषि ने अपनी दैवीय शक्ति से उसे एक बार फिर चूहा बना दिया.

शिक्षा/Moral:- दोस्तों! हमें कभी भी अपने हितैषी का अहित नहीं करना चाहिए, चाहे हम कितने ही बलशाली क्यों न हो जाए. हमें उन लोगो को हमेशा याद रखना चाहिए जिन्होंने हमारे बुरे वक्त में हमारा साथ दिया होता है. इसके अलावा हमें अपने बीते वक्त को भी नहीं भूलना चाहिए. चूहा यदि अपनी असलियत याद रखता तो उसे फिर से चूहा नहीं बनना पड़ता. बीता हुआ समय हमें घमंड से बाहर निकालता है.
Inspirational Stories - ऋषि और एक चूहा (Sage and a mouse)


A sage lived in a forest. A rat had been living at his tent for a long time. This rat was very much in love with the sage. When he was engrossed in penance, he used to listen to Bhajan sitting near him with great pleasure. Even he himself started worshiping God. But the dog - the cat and the eagle - the crows, etc., he was always scared and scared. Once, the sage felt very much compassion for that rat. They started thinking that this poor mouse is scared all the time, why not make it a lion. So that the fear of this poor person ends and it can roam everywhere without fear. The sages were the masters of great divine power. On the strength of his power, he turned that rat into a lion and started thinking that now this rat will not be afraid of any animal and will fearlessly roam the entire forest. But as soon as the lion became a lion, all the thinking of the rat changed. He roams fearlessly in the whole forest. Now all the animals started getting scared and bowed. He started cheering. But the sage knew that this is just a mouse. Not really a lion. Therefore, the sage treated him as a mouse. The rat did not like that anyone should treat him as a mouse. He started thinking that in this way, other animals will also be affected. People will start hating and disrespecting him more than he believes. So the rat thought why do not I may kill the sage. No more bamboo, no flute will be played. Thinking this, he went to kill the sage. As soon as the sage saw a lion full of anger coming towards him, he understood his mind. He got very angry on the lion. Therefore, to break his pride, the sage made him a mouse once again with his divine power.

Education / Moral: - Friends! We should never harm our benevolent, no matter how powerful we may be. We should always remember those people who have supported us in our bad times. Also we should not forget their past. If the mouse remembered its reality, it would not have to become a mouse again. The past takes us out of pride.

Comments